Difference Between Guarantee And Warranty In Hindi
Difference Between Guarantee And Warranty In Hindi

Difference Between Guarantee And Warranty In Hindi

क्या हमें बिना वारंटी या गारंटी वाले सामान लेने चाहिए या नहीं? Difference Guarantee And Warranty In Hindi

वारंटी क्या है ?

  • जैसे की ग्राहक के द्वारा ख़रीदा गया उत्पाद (Product) ठीक करके या सुधार कर दिया जायेगा।
  • ग्राहक से जो प्रोडक्ट ख़रीदा है उसका आपके पास पक्का बिल या वारंटी कार्ड होना चाहिए।
  • ग्राहक के पास खरीदे गए प्रोडक्ट का पक्का बिल हो या फिर वारंटी कार्ड हो।
  • वारंटी कार्ड पर विक्रेता के हस्ताक्षर और मोहर लगी हुई हो।

गारंटी क्या है ?

  • इसमें आप गारंटी के तहत आप खराब प्रॉडेक्ट को बदल कर उसकी जगह नया प्रॉडेक्ट ले सकते है  हैं।
  • अगर विक्रेता यह पाता है कि प्रॉडेक्ट में किसी तरह की खराबी है तो वह उस प्रॉडेक्ट को बदलकर आप को एक नया प्रॉडेक्ट देता है। यही वजह है कि अधिकांश कंपनियां गारंटी की अवधि अपेक्षाकृत कम रखती हैं ।
  • ग्राहक के पास खरीदे गए प्रोडक्ट का पक्का बिल हो या फिर वारंटी कार्ड हो।

यह भी पढ़ें: Android किसे कहते है ? | कितने प्रकार के होते है?

गारंटी और वारंटी हासिल करने की शर्तें व सावधानिया

  1. तथा उस पक्का बिल और गारंटी / वारंटी कार्ड पर विक्रेता के स्टाम्प, हस्ताक्षर व तारीख लिखी हुई हो
  2. किसी भी प्रकार की गारंटी और वारंटी लाइन के लिए ये जरूरी है की वो प्रोडक्ट किसी भी प्रकार से झतिग्रस्त नही हुआ हो यानी की अगर आपका प्रोडक्ट टूट गया है या फिर कहि से मुड गया है तो कम्पनी उस प्रोडक्ट पर गारंटी और वारंटी देने से मना कर सकती है
  3. अगर कोई प्रोडक्ट वारंटी में ठीक होता है तो उस प्रोडक्ट को ठीक होने के समय को वारंटी में दिए गये समय के साथ नही जोड़ा जाता है ऐसा ही गारंटी के साथ भी है अगर कोई दुकानदार या कम्पनी किसी प्रोडक्ट को बदलने और उसकी जगह नया प्रोडक्ट देने के लिए समय लेती है तो वो समय भी उस प्रोडक्ट की गारंटी के समय में काउंट नही होगा इसके लिए जरूरी है की आप या तो अपने दुकानदार और कम्पनी से  गारंटी और वारंटी का अलग से एक्सटेंट डे सर्टिफिकेट ले या फिर अपने बिल पर ये सब लिखवा ले.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here