पर्यायवाची शब्दो की परिभाषा || कितने प्रक्रार के होते है ?
पर्यायवाची शब्दो की परिभाषा || कितने प्रक्रार के होते है ?

पर्यायवाची शब्दो की परिभाषा

एक ही शब्द के एक से ज्यादा अर्थ निकले उसे पर्यायवाची शब्द कहते है. अर्थात किसी शब्द-विशेष के लिए प्रयुक्त समानार्थक शब्दों को पर्यायवाची शब्द कहते हैं। पर्यायवाची शब्द समानार्थक शब्द भी होते है ,परंतु भाव में एक-दूसरे से बिलकुल भिन्न होते हैं। पर्यायवाची शब्दो की परिभाषा

जैसे :- उजाला – प्रकाश,खून – रक्त.

पर्यायवाची शब्द एक दूसरे शब्दों के समान अर्थ शब्द होते हैं लेकिन इनका उपयोग बड़ी ही सावधानी के साथ करना पड़ता है क्योंकि हम हर एक व्यक्ति में सभी पर्यायवाची शब्दों को इस्तेमाल नहीं कर सकते जैसे कि जहां पर पानी शब्द का उपयोग होगा वहां पर हम नीर शब्द का उपयोग नहीं कर सकते तो ऐसे ही कुछ महत्वपूर्ण पर्यायवाची शब्द नीचे दिए गए हैं इनमें से काफी पर्यायवाची शब्द अक्सर परीक्षाओं में पूछे जाते हैं.

पर्यायवाची शब्द की परिभाषा और पर्यायवाची शब्द किसे कहते है ये जानने के बाद अब हम ये जानते है की पर्यायवाची शब्द के कितने प्रकार हिते है । पर्यायवाची शब्द दो प्रकार के होते है
(1). पुर्ण पर्यायवाची शब्द
(2). आपुर्ण पर्यायवाची शब्द

1. पुर्ण पर्यायवाची शब्द —

जिस वाक्य में किसी शब्द के स्थान पर उसका पर्यायवाची शब्द रखने पर वाक्य के अर्थ में कोई परिवर्तन नही होता ऐसे शब्दो को हम पुर्ण पर्यायवाची शब्द कहते है ।

2. आपुर्ण पर्यायवाची शब्द —

जिस वाक्य में दो पर्यायवाची शब्दों का एक दुसरे के स्थान पर प्रयोग नही किया जा सकता, ऐसे शब्दो को आपुर्ण पर्यायवाची शब्द कहते है ।
पर्यायवाची शब्दों के अर्थ में समानता रहते हुए भी इनके प्रयोग एक ही तरह के नहीं होते हैं।
शब्द
पर्यायवाची शब्द
अग्नि अनल, आग, पावक, दहन, कृशानु, वह्नि।
अलंकार गहना, भूषण, आभूषण, विभषण, जेवर।
अमृत अमिय, पीयूष, सोम, सुधा, अमी, सुरभोग।
असुर दानव, राक्षस, निशाचर, तमचर, रजनीचर, दैत्य, रात्रिचर।
अपमान अनादर, अवज्ञा, अवहेलना, अवमान, तिरस्कार।
अतिथि आगन्तुक, पाहुन, मेहमान, अभ्यागत।
अजेय अजित, अपराजित, अपराजेय
अनुपम अपूर्व, अनोखा, अतुल, अनूठा
अश्व तुरंग, घोड़ा, घोटक, हरि, बाजि, सैन्धव, हय
अंधकार तम, तिमिर, तमस, तमिस्र, अंधेरा।
अनुचर नौकर, दास, सेवक,
आम रसाल, आम्र, सौरभ, अमृतफल, सहुकार
आंख लोचन, चक्षु, नयन, नेत्र, दृग, अक्षि।
आकाश अन्तरिक्ष, शून्य, अम्बर, गगन, नभ, व्योम, अनन्त, आसमान
आत्मा जीव, चैतन्य, अंतःकरण, देव
आनंद उल्लास, हर्ष, आमोद, मोद
इच्छा आकांक्षा, अभिलाषा, कामना, चाह, लिप्सा, लालसा।

इन्द्र

शचीपति, देवराज, सुरेश, सुरपति, अमरेश, देवेन्द्र, मेघराज।

इन्द्राणी शची, पुलोमजा, इन्द्रवधु
उपवन बाग, बगीचा, उद्यान, वाटिका, गुलशन।
कमल राजीव, अरविन्द, पंकज, नीरज, सरोज, जलज, पुण्डरीक, इन्दीवर।
कण्ठ ग्रीवा, गर्दन, गला, शिरोधरा।
कपड़ा पट, चीर, दुकूल, वसन, अम्बर, वस्त्र।
कनक सोना, स्वर्ण, धतूरा
कान श्रवण, कर्ण, श्रुति, श्रवणेंद्रिय
कामदेव मदन, मनोज, मन्मथ, मार, कंदर्प, अनंग, मनसिज, रतिनाथ
कच बाल, केश, कुन्तल, चिकुर, अलक, रोम, शिरोरूह।
काजल कज्जल, अंजन, सुरमा, काज़र
कबूतर कपोत, रक्तलोचन, पारावत, कलरव, हारिल।
कोयल कोकिला, काक्पाली, वसंतदूत, पिक
किरण अंशु, कर, ज्योति, प्रभा, मरीचि, रश्मि, मयूख
किनारा कूल, तट, कगार, तीर।
किसान कृषक, हलधर, भूमिपुत्र, खेतिहर, अन्नदाता
कृष्ण केशव, गोविन्द, माधव, मोहन, घनश्याम, राधापति
काया देह, तन शरीर, वपु, गात।
खल अधम, दुर्जन, दुष्ट, कुटिल, नीच
खग पक्षी, द्विज, विहग, नभचर, अण्डज, शकुनि, पखेरू।

गंगा

मंदाकिनी, देवनदी, भगीरथी, देवपगा, सुरसरिता, जाह्नवी, त्रिपथगा

गाय धेनु, गौ, सुरभि, रोहिणी
गुरु शिक्षक, आचार्य, उपाध्याय।
गणेश एकदन्त, विनायक, गजानन, गणपति, लम्बोदर, महाकाय।
गृह घर, सदन, भवन, निवास, आलय, निकेतन।
गज हाथी, हस्ती, मतंग, मदकल।
चरण पैर, पद, पग, पांव।
चंद्रमा मयंक, सुधाकर, चन्द्र, शशि, हिमकर, राकेश, इन्दु, सोम, सुधांशु, हिमांशु।
चांदनी चन्द्रिका, कौमुदी, ज्योत्स्ना, चन्द्रप्रभा, जुन्हाई।
चतुर चालाक, पटु, नागर, दक्ष, प्रवीण
जल अम्बु, उदक, पानी, वारि, पय, सलिल, तोय, जीवन, नीर
जगत् संसार, विश्व, जगती, भव, दुनिया, लोक।
जीभ रसना, रसज्ञा, जिह्वा, रसिका, वाचा, जबान, वाणी।
जंगल कानन, वन, अरण्य, गहन, विपिन
तालाब सरोवर, सर, पुष्कर, पोखर, जलाशय
तरुवर वृक्ष, पेड़, द्रुम, तरु, विटप, पादप।
तलवार असि, कृपाण, करवाल, खड्ग, चन्द्रहास।

दिन

दिवस, दिवा, वार, याम

दूध दुग्ध, क्षीर, पय
दुर्गा चण्डी, चामुण्डा, कल्याणी, भवानी।
दधि दही, गोरस, मट्ठा, तक्र।
दीन गरीब, दरिद्र, रंक, ​निर्धन
दांत दशन, रदन, द्विज, दन्त, मुखखुर।
दास सेवक, अनुचर, चाकर, किंकर, परिचारक।
दिन दिवस, वार, वासर, दिवा।
दीपक दीप दीया प्रदीप।
धनुष चाप, कमान, कोदण्ड, सरासन, पिनाक, सारंग।
पुत्र बेटा, सुत, तनय, आत्मज
पुत्री बेटी, सुता, तनया, आत्मजा
पृथ्वी धरा, मही, वसुधा, वसुन्धरा, धरती, भूमि
पर्वत नग, भूधर, शैल, पहाड़
मेघ जलधर, जलद, पयोद, पयोधर, घन, बादल
बिजली चपला, चंचला, दामिनी, सौदामनी
राजा नृपति, नृप, भूपति
रजनी रात, रात्रि, निशा, यामिनी, विभावरी
हाथ कर, हस्त, पाणि, बाहु, भुजा
हिमालय हिमगिरी, हिमाचल, गिरिराज, पर्वतराज, हिमाद्रि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here