धारा 354A क्या है ? || स्त्री लज्जाभंग या यौन उत्पीड़न
धारा 354A क्या है ? || स्त्री लज्जाभंग या यौन उत्पीड़न

धारा 354A क्या है ? || स्त्री लज्जाभंग या यौन उत्पीड़न

भारतीय दंड संहिता की धारा 354A के अनुसार-

भारतीय दंड संहिता में “यौन उत्पीड़न और यौन उत्पीड़न के लिए दंड” को (IPC) की धारा 354 [A] में परिभाषित (डिफाइन) किया गया है | यहाँ हम आपको बताने जा रहे हैं कि भारतीय दंड सहिता (IPC) की धारा 354 [A] किस तरह अप्लाई होगी | भारतीय दंड संहिता यानि कि IPC की धारा 354 [A] क्या है ? धारा 354A क्या है ?

(1) जो व्यक्ति ऐसा कोई निम्नलिखित कार्य अर्थात :-

(i) किसी महिला को गलत निगाह रखते हुए छूता है, अग्रक्रियाएँ करता है, जिनमे लैंगिक सम्बन्ध बनाने का स्पष्ट प्रस्ताव निहित हो ; या

(ii) उसे शारीरिक संबंध बनाने के लिए कहता है, मांग करता है; या

(iii) उसे उसकी इच्छा के विरूद्ध अश्लील साहित्य/पुस्तकें दिखाता है; या

  • इसे भी पढ़ें: GENERAL KNOWLEDGE QUESTIONS (भारत सामान्य ज्ञान)

(iv) उस महिला पर अश्लील टिप्पणी/छीटाकशी करता है,वह यौन उत्पीड़न का दोषी होगा

(2) उसे उपधारा (1) के खंड [(i) – (iii)] में निर्दिष्ट अपराध के लिए किसी एक अवधि के लिए कठोर कारावास की सजा जिसे 3 वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है, या आर्थिक दंड, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा।

(3) ऐसा पुरुष जो उपधारा (1) के खंड (iv) में निर्दिष्ट अपराध के लिए किसी एक अवधि के लिए कारावास की सजा जोकि 1 वर्ष की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा।

अपराध सजा संज्ञेय जमानत विचारणीय
अनिष्ट शारीरिक संपर्क और अग्रिम की प्रकृति का यौन उत्पीड़न या यौन पक्ष या अश्लील सामग्री- साहित्य दिखाने के लिए मांग या अनुरोध वर्ष कठोर कारावास या जुर्माना  या दोनों हो सकते हैं संज्ञेय जमानतीय कोई भी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय (ट्रायल किया जा सकता)
यौन रंग की टिप्पणी करने की प्रकृति का यौन उत्पीड़न वर्ष कठोर कारावास या जुर्माना  या दोनों हो सकते हैं संज्ञेय जमानतीय कोई भी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय (ट्रायल किया जा सकता)

आईपीसी धारा 354A क्या है? | धारा 354 [A]  में  जमानत  (BAIL) का प्रावधान

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 354 [A]  में जिस अपराध की सजा के बारे में बताया गया है उस अपराध को एक जमानती और संज्ञेय अपराध बताया गया है | यहाँ आपको मालूम होना चाहिए कि जमानतीय अपराध होने पर इसमें जमानत मिल जाती है , CrPC में यह जमानतीय अपराध बताया गया है ।

 

मित्रों उपरोक्त वर्णन से आपको आज भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 354 [A]  के बारे में जानकारी हो गई होगी | इसमें क्या अपराध बनता है कैसे इस धारा को लागू किया जायेगा | इस अपराध को कारित करने पर क्या सजा होगी ?  इन सब के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, साथ ही इसमें जमानत के क्या प्रावधान होंगे ? यदि फिर भी इस धारा से सम्बन्धित या अन्य धाराओं से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  हमें  कमेंट  बॉक्स के माध्यम से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here